जिस तरह से स्टॉक एक्सचेंज पर शेयर खरीदे और बेचे जाते हैं, वैसे ही क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज पर एक निश्चित प्राइस पर क्रिप्टोकरेंसी खरीद सकते हैं और जब मुनाफा मिले तो इसे बेच सकते हैं. (Representative Image)

Crypto Currency में निवेश का है इरादा, तो जान लें इनकी ट्रेडिंग पर लगती है कौन-कौन सी फीस

अगर आप क्रिप्टो करेंसी में निवेश की योजना बना रहे हैं तो इनकी ट्रेडिंग के लिए लगने वाली तीन तरह की ट्रांजैक्शन फीस के बारे में जरूर जान लें.

Crypto Currency में निवेश का है इरादा, तो जान लें इनकी ट्रेडिंग पर लगती है कौन-कौन सी फीस

जिस तरह से स्टॉक एक्सचेंज पर शेयर खरीदे और बेचे जाते हैं, वैसे ही क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज पर क्रिप्टोकरेंसी बाजार क्या हैं एक निश्चित प्राइस पर क्रिप्टोकरेंसी खरीद सकते हैं और जब मुनाफा मिले तो इसे बेच सकते हैं. (Representative Image)

Trading in Crypto Currencies: दुनिया भर में निवेशकों के बीच क्रिप्टो करेंसी में निवेश को लेकर आकर्षण बढ़ रहा है. इसमें क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज के जरिए ट्रेडिंग होती है. इस एक्सचेंज पर मौजूदा मार्केट वैल्यू के आधार पर क्रिप्टो करेंसीज को खरीदा-बेचा जाता है. जहां इनकी कीमत मांग और आपूर्ति के हिसाब से तय होती है. जिस तरह से स्टॉक एक्सचेंज पर शेयर खरीदे और बेचे जाते हैं, वैसे ही क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज पर एक निश्चित प्राइस पर क्रिप्टो करेंसी खरीद सकते हैं और जब मुनाफा मिले तो बेच सकते हैं. स्टॉक एक्सचेंज की तरह ही क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज पर भी ट्रेडिंग के लिए फीस चुकानी होती है. इसलिए अगर आपने क्रिप्टो करेंसी में निवेश करने की सोच रहे हैं, तो पहले इनकी ट्रेडिंग पर लगने वाली तीन तरह की ट्रांजैक्शन फीस के बारे में जरूर जान लें.

एक्सचेंज फीस

  • क्रिप्टो खरीद या बिक्री ऑर्डर को पूरा करने के लिए एक्सचेंज फीस चुकानी होती है. भारत में अधिकतर क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज का फिक्स्ड फीस मॉडल है, लेकिन ट्रांजैक्शन की फाइनल कॉस्ट उस प्लेटफॉर्म पर निर्भर होती है जिस पर ट्रांजैक्शन पूरा हुआ है. ऐसे में इसे लेकर बेहतर रिसर्च करनी चाहिए कि कौन सा क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज सबसे कम ट्रांजैक्शन फीस ले रहा है.
  • फिक्स्ड फीस मॉडल के अलावा क्रिप्टो एक्सचेंज में मेकर-टेकर फी मॉडल भी है. क्रिप्टो करेंसी बेचने वाले को मेकर कहते हैं और इसे खरीदने वाले को टेकर कहते हैं. इस मॉडल के तहत ट्रेडिंग एक्टिविटी के हिसाब से फीस चुकानी होती है.

नेटवर्क फीस

  • क्रिप्टोकरेंसी माइन करने वालों को नेटवर्क फीस चुकाई जाती है. ये माइनर्स शक्तिशाली कंप्यूटर्स के जरिए किसी ट्रांजैक्शन को वेरिफाई और वैलिडेट करते हैं और ब्लॉकचेन में जोड़ते हैं. एक तरह से कह सकते हैं कि कोई ट्रांजैक्शंन सही है या गलत, यह सुनिश्चित करना इन माइनर्स का काम है. एक्सचेंज का नेटवर्क फीस पर सीधा नियंत्रण नहीं होता है. अगर नेटवर्क पर भीड़ बढ़ती है यानी अधिक ट्रांजैक्शन को वेरिफाई और वैलिडेट करना होता है तो फीस बढ़ जाती है.
  • आमतौर पर यूजर्स को थर्ड पार्टी वॉलेट का प्रयोग करते समय ट्रांजैक्शन फीस को पहले से ही सेट करने की छूट होती है. लेकिन एक्सचेंज पर इसे ऑटोमैटिक एक्सचेंज द्वारा ही सेट किया जाता है ताकि ट्रांसफर में कोई देरी न हो. जो यूजर्स अधिक फीस चुकाने के लिए तैयार हैं, उनका ट्रांजैक्शन जल्द पूरा हो जाता है और जिन्होंने फीस की लिमिट कम रखी है, उनके ट्रांजैक्शन पूरा होने में कुछ समय लग सकता है. माइनर्स को इलेक्ट्रिसिटी कॉस्ट और प्रोसेसिंग पॉवर के लिए फीस दी जाती है.

वॉलेट फीस

  • क्रिप्टो करेंसी को एक डिजिटल वॉलेट में रखा जाता है. यह वॉलेट एक तरह से ऑनलाइन बैंक खाते के समान होता है जिसमें क्रिप्टो करेंसी को सुरक्षित रखा जाता है. अधिकतर वॉलेट में क्रिप्टो करेंसी के डिपॉजिट और स्टोरेज पर कोई फीस नहीं ली जाती है, लेकिन इसे निकालने या कहीं भेजने पर फीस चुकानी होती है. यह मूल रूप से नेटवर्क फीस है. अधिकतर एक्सचेंज इन-बिल्ट वॉलेट की सुविधा देते हैं.
  • क्रिप्टो वॉलेट्स सिस्टमैटिक क्रिप्टो करेंसी खरीदने का विकल्प देते हैं और इसके इंटीग्रेटेड मर्चेंट गेटवे के जरिए स्मार्टफोन व डीटीएस सर्विसेज को रिचार्ज कराया जा सकता है.
    (Article: Shivam Thakral, CEO, BuyUcoin)
    (स्टोरी में क्रिप्टोकरेंसी को लेकर दिए गए सुझाव लेखक के हैं. फाइनेंशियल एक्सप्रेस ऑनलाइन इनकी कोई जिम्मेदारी नहीं लेता. निवेश से पहले अपने सलाहकार से जरूर परामर्श कर लें.)

Crorepati Stock: 1 लाख के बन गए 30 लाख, 10 साल में 30 गुना बढ़ा पैसा, इस केमिकल शेयर ने बनाया करोड़पति

Bikaji Foods के IPO में पैसा लगाने वालों की भर रही है जेब, लगातार दूसरे दिन 10% अपर सर्किट, रिकॉर्ड हाई पर शेयर

Paytm: निवेशकों के डूब चुके हैं 1.10 लाख करोड़, साबित हुआ देश का सबसे खराब आईपीओ, शेयर का क्‍या है फ्यूचर

बिटकॉइन और दूसरी क्रिप्टोकरेंसी की कीमतों में आ सकती है 20% की गिरावट, क्या है वजह?

बिटकॉइन और दूसरी क्रिप्टोकरेंसी की कीमतों में आ सकती है 20% की गिरावट, क्या है वजह?

क्रिप्टो मार्केट कैपिटलाइजेशन में जल्द ही बड़ी गिरावट देखने को मिल सकती है. यह 1 ट्रिलियन डॉलर से नीचे गिर सकता है. हालांकि इंवेस्टर्स को 1.2 ट्रिलियन डॉलर से ऊपर जाते हुए इसकी रिकवरी की उम्मीद थी, जो आखिरी बार 10 जून को देखी गयी थी. Cointelegraph की एक रिपोर्ट में गिरावट की आशंका जताई जा रही है.

इतना ही नहीं क्रिप्टोकरेंसी मार्केट की भी हालत नाजुक है. 22 अगस्त को, WTI oil की वैल्यू में 3.6% की गिरावट आई. यह 8 जून को अपने $ 122 के शीर्ष से 28% नीचे गिर गया. US Treasuries पर 5 साल की उपज ने अपनी प्रवृत्ति को उलट दिया और वर्तमान में 1 अगस्त के 2.61% से निचले स्तर पर पहुंचने के बाद 3.16% पर कारोबार कर रहा है. इन सभी से संकेत मिलता है कि निवेशकों का केंद्रीय बैंक के इस तरह के ऋण साधनों को रखने के लिए अधिक धन मांगने की प्रथाओं में विश्वास खो रहा है.

गोल्डमैन सैक्स (Goldman Sachs) के मुख्य अमेरिकी इक्विटी रणनीतिकार डेविड कोस्टिन के अनुसार, S&P 500 का जोखिम-इनाम अनुपात वर्तमान में जून के मध्य से 17% की वृद्धि के बाद नीचे की ओर गिरा है. कॉस्टिन ने एक क्लाइंट नोट लिखा है कि अगर मुद्रास्फीति ऊपर की ओर आश्चर्यचकित करती है, तो अमेरिकी फेडरल रिजर्व को अर्थव्यवस्था को और अधिक मजबूती से कसना होगा, जिसका मूल्यों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा.

इस बीच, चीन में COVID-19 के प्रसार को रोकने के लिए कथित तौर पर लंबे समय तक क्रिप्टोकरेंसी बाजार क्या हैं लॉकडाउन और संपत्ति ऋण के मुद्दों ने PBOC को 21 अगस्त को 4.45% से अपनी पांच साल की प्राइम लेंडिंग रेट को 4.30% तक कम करने के लिए प्रेरित किया. चीनी केंद्रीय बैंक द्वारा अप्रत्याशित रूप से ब्याज दरों में कमी करने के एक हफ्ते बाद ये हुआ है.

बढ़ती मुद्रास्फीति के कारण जोखिम-बंद मानसिकता के परिणामस्वरूप निवेशकों को अधिक ब्याज दर बढ़ने की उम्मीद है, जो अंततः विकास शेयरों, वस्तुओं और क्रिप्टोकरेंसी के लिए निवेशकों के उत्साह में गिरावट का कारण बनेगी. Cointelegraph के अनुसार, परिणामस्वरूप, अस्पष्टता के समय में ट्रेडर अमेरिकी डॉलर और मुद्रास्फीति-संरक्षित बॉन्ड में सुरक्षा प्राप्त करने के इच्छुक हैं.

21 अगस्त को, Fear and Greed Index ने 27/100 का आंकड़ा दर्ज किया, जो इस डेटा-संचालित इमोशन मीटर के लिए पिछले 30 दिनों में सबसे कम मूल्य है. इससे पता चलता है कि निवेशकों की राय 16 अगस्त को 44/100 रीडिंग से बदल गई थी और ट्रेडर अब क्रिप्टोकरेंसी बाजार में होने वाली छोटी अवधि की हलचल से अधिक सावधान हैं.

क्रिप्टोकरेंसी का कुल बाजार पूंजीकरण 12.6% गिरकर 1.04 ट्रिलियन डॉलर हो गया है. जबकि बिटकॉइन (BTC) ने 12% की गिरावट देखी, मध्य-पूंजीकरण वाले कुछ ऑल्टकॉइन्स ने 23% या उससे अधिक की गिरावट देखी.

EOS में 34.4% की वृद्धि हुई क्योंकि इसके समुदाय ने सितंबर में आगामी "Mandel" हार्ड फोर्क के बारे में उम्मीद जताई है. अपडेट के परिणामस्वरूप Block.one के साथ संबंध पूरी तरह से समाप्त होने की उम्मीद है. बार्सिलोना फुटबॉल क्लब के नए डिजिटल और मनोरंजन डिविजन में Socios.com ने 25% शेयर के लिए $100 मिलियन की खरीद के बाद, Chiliz (CHZ) में 2.6% की वृद्धि देखी गई.

Cryptocurrency में 7 दिन में 83 फीसदी की गिरावट, डूब गया निवेशकों का 50 फीसदी पैसा

Cryptocurrency में 7 दिन में 83 फीसदी की गिरावट, डूब गया निवेशकों का 50 फीसदी पैसा

Cryptocurrency Market Update। क्रिप्टो मार्केट में बीते कुछ दिनों से जारी लगातार गिरावट के कारण निवेशकों का बड़ा झटका लगा है। बीते एक सप्ताह की बात की जाए तो क्रिप्टो करेंसी मार्केट में 83 फीसदी की गिरावट देखने क्रिप्टोकरेंसी बाजार क्या हैं को मिली है और निवेशकों के करीब 50 फीसदी डूब गया है। हालांकि बीते कई दिनों के बाद आज बुधवार को क्रिप्टो मार्केट हरे निशान पर ट्रेडिंग करते हुए दिखाई दे रहा है, लेकिन क्रिप्टो मार्केट में आज का उछाल निवेशकों के खास उत्साहित करने वाला नहीं है क्योंकि भारी गिरावट के बाद क्रिप्टो मार्केट में हल्की बढ़त दिखाई दे रही है, जिससे निवेशकों को भरपाई होना मुश्किल है।

बुधवार सुबह क्रिप्टो मार्केट में 1.57 फीसदी का उछाल देखने को मिला है। ग्लोबल क्रिप्टो करेंसी मार्केट कैप (Global Crypto Market Cap) कल मंगलवार के 1.42 ट्रिलियन डॉलर की तुलना में आज बुधवार को भी 1.42 ट्रिलियन डॉलर ही है। इससे पता चलता है कि दशमलव के बाद के दो अंकों में इस उछाल से कोई परिवर्तन नहीं हुआ है।

Coinmarketcap ने जो आंकड़ें जारी किए हैं उसके मुताबिक बिटकॉइन (Bitcoin Price Today) के प्राइस में आज 1.77 फीसदी की बढ़त देखने को मिली है। यह करेंसी बुधवार को 31,288.40 डॉलर पर ट्रेड करती दिख रही है। हालांकि बीते एक सप्ताह की तुलना में इसमें अभी भी 17.76 फीसदी की गिरावट देखी जा रही है। दूसरी ओर इथेरियम क्रिप्टोकरेंसी की बात की जाए तो इथेरियम के कीमत में भी बीते 24 घंटे में 2.36 फीसदी की बढ़त देखने को मिली है और फिलहाल यह 2,361.81 डॉलर तक पहुंच गई है। बीते 7 दिन में इसमें 15.58 फीसदी की गिरावट देखी गई है।

खेती के कामों के साथ-साथ कमर्शियल और ट्रॉली के काम के लिए जबरदस्त है Massey Ferguson 7235 DI

टॉप 20 में ट्रेड होने वाली क्रिप्टोकरेंसी में सबसे ज्यादा गिरावट लूना (Tera – LUNA) में आई है। बुधवार को भी लूना में 48.61 फीसदी गिरावट देखी गई। इससे पहले मंगलवार को भी लूना में 55 फीसदी क्रिप्टोकरेंसी बाजार क्या हैं की गिरावट दर्ज की गई थी। बीते एक सप्ताह की बात करें तो लूना में 83.74 फीसदी की बहुत बड़ी गिरावट दर्ज की जा चुकी है। फिलहाल इसका प्राइस 28.15 डॉलर है।

Video: क्रिप्टो बाजार धड़ाम, अब क्या करें निवेशक?

टाइम्स नाउ डिजिटल

Cryptocurrency Crash: बढ़ती ब्याज दरों के बीच क्रिप्टोकरेंसी बाजार में हाहाकार मच गया है। बिटकॉइन सहित लगभग सभी क्रिप्टो में भारी गिरावट देखने को मिल रही है।

Cryptocurrency Crash: know what should investors do now

नई दिल्ली। क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) में बिकवाली लगातार जारी है। क्रिप्टो मार्केट कैप अब 2 ट्रिलियन डॉलर से कम होकर करीब 800 अरब डॉलर हो गया है। ये बड़ा नुकसान है। बिटकॉइन, एथेरियम, एक्सआरपी, डॉजकॉइन, आदि सहित लगभग सभी क्रिप्टोकरेंसी में गिरावट है। आइए जानते हैं क्रिप्टो निवेशकों के लिए ET Now और ईटी नाउ स्वदेश के मैनेजिंग एडिटर Nikunj Dalmia की क्या राय है। सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी में से एक, बिटकॉइन (Bitcoin Price) 20,000 डॉलर के 18 महीनों में अपने सबसे निचले स्तर के पास कारोबार कर रहा है।

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

7 महीनों में आधा भी नहीं रहा क्रिप्टो बाजार, Bitcoin और Ethereum क्रैश

7 महीनों में आधा भी नहीं रहा क्रिप्टो बाजार, Bitcoin और Ethereum क्रैश

डीएनए हिंदी: नवंबर 2021 में क्रिप्टो मार्केट अपने चरम पर था. सभी यही अनुमान लगा रहे थे कि साल 2021 में बिटकॉइन एक लाख डॉलर के लेवल के पार चला जाएगा. इस बात तो करीब 7 महीने पूरे हो चुके हैं. नवंबर से ग्लोबल क्रिप्टो मार्केट आधा भी नहीं रह गया है , जबकि बिटकॉइन और इथेरियम में नवंबर 2021 में अपने ऑलटाइम हाई से 50 फीसदी से ज्यादा नीचे आ चुके हैं. आज भी ग्लोबल क्रिप्टो बाजार नीचे है. दुनिया की सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन के दाम में 3 फीसदी और इथेरियम में 4 फीसदी की गिरावट देखने को मिल रही है. आइए आपको भी बताते हैं के आखिर क्रिप्टो एक्सचेंज में किस तरह के आंकड़ें देखने को मिल रहे हैं.

आधे से भी ज्यादा गिरा क्रिप्टो बाजार
नवंबर 2021 में ग्लोबल क्रिप्टोकरेंसी मार्केट 3 ट्रिलियन डॉलर पर आ गया था. वहां से इसमें लगातार गिरावट देखने को मिली है. करीब 7 महीनों में ग्लोबल क्रिप्टोकरेंसी मार्केट आधा से भी कम हो गया है. कॉइनमार्केटकैप के आंकड़ों के अनुसार 1.26 ट्रिलियन डॉलर पर आ गया है. जो बीते 24 घंटे क्रिप्टोकरेंसी बाजार क्या हैं में करीब दो फीसदी गिरा है. सोमवार को क्रिप्टो मार्केट 1.33 ट्रिलियन डॉलर पर थी. आंकड़ों को देखकर साफ पता चलता है कि बीते करीब 7 महीनों में क्रिप्टो मार्केट में करीब 58 फीसदी की गिरावट देखने को मिल चुकी है.

Crypto Prices

बिटकॉइन 3 फीसदी टूटा
दुनिया की सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन के दाम में आज गिरावट देखने को मिली है. मंगलवार को बिटकॉइन बीते 24 घंटे के मुकाबले करीब 3 फीसदी गिरकर 29384 डॉलर पर आ गया था. जबकि कारोबारी सत्र के दौरान बिटकॉइन 28 हजार डॉलर के लेवल पर भी आया. आपको बता दें कि नवंबर के महीने में बिटकॉइन 69 हजार डॉलर पर आ गया था. तब से बिटकॉइन में करीब 58 फीसदी की गिरावट आ चुकी है. बीते 7 दिन में बिटकॉइन 3 फीसदी से ज्यादा टूटा है. जबकि एक महीने में 26 फीसदी से ज्यादा की गिरावट देखने को मिल चुकी है. जबकि 6 महीने में बीटीसी करीब 49 फीसदी कम हुआ है. साल 2022 में इसमें 38 फीसदी और एक साल में 22 फीसदी की गिरावट देखने को क्रिप्टोकरेंसी बाजार क्या हैं मिल चुकी है.

इथेरियम में भी बड़ी गिरावट
— इथेरियम बीते 24 घंटे के मुकाबले 3 फीसदी की गिरावट के साथ 1,978.95 डॉलर पर कारोबार कर रहा है.
— नवंबर के महीने में इथेरियम ने 4,865.57 डॉलर का ऑलटाइम हाई मारा था.
— ऑलटाइम हाई से इथेरियम यानी करीब 7 महीनों में 60 फीसदी नीचे आ चुका है.

— बीते 7 दिनों में इथेरियम में 4.20 फीसदी गिरावट आई है.
— एक महीने में इथरियम 33 फीसदी गिर चुका है.
— 6 महीनों में इथेरियम 54 फीसदी गिर चुका है.
— साल 2022 में 47 फीसदी टूटा इथेरियम.
— बीते एक साल में 17 फीसदी की आई गिरावट.

डॉजकॉइन और शीबा इनु में भी गिरावट
वहीं दूसरी ओर डॉजकॉइन और शीबा इनु में भी गिरावट देखने को मिली है. डॉजकॉइन आज 2.50 फीसदी गिरावट के साथ 0.083983 डॉलर पर कारोबार कर रहा है. जबकि इस साल डॉजकॉइन 51 फीसदी से ज्यादा गिर चुका है. जबकि 6 महीनों में 62 फीसदी से ज्यादा की गिरावट देखने को मिल चुकी है. दूसरी ओर शीबा इनु में आज 1.25 फीसदी गिरावट आई है , जिसके बाद दाम 0.000012 डॉलर पर आ गए हैं. साल 2022 में शीबा इनु 65 फीसदी से ज्यादा गिरावट आई है. जबकि बीते 6 महीनों में 68 फीसदी गिरावट आ चुकी है.

क्यों गिर रहा है क्रिप्टो मार्केट
जानकारों की मानें तो देश में बढ़ती महंगाई और उसके बाद दुनियाभर के केंद्रीय बैंकों की ओर से ब्याज दरों में इजाफे के दिए संकेतों की वजह से क्रिप्टोकरेंसी के दाम में गिरावट देखने को मिल रही है. केडिया एडवाइजरी के डायरेक्टर अजय केडिया के अनुसार फेड की ओर से अपनी दरों को बढ़ाना शुरू किया है. आने वाले दिनों में फेड की दरों में और तेजी देखने को मिल सकती है. जिसका असर क्रिप्टोकरेंसी में देखने को मिल सकता है. उन्होंने कहा कि जब भी इकोनॉमी में हल्की सी भी उथल पुथल देखने को मिलती है तो निवेशक अपने पैसों को रिस्की असेट्स से निकालना शुरू कर देते हैं. सुरक्षित निवेश जैसे सोना और चांदी में निवेश करना शुरू कर देते हैं.

रेटिंग: 4.49
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 310